इन रत्नों को धारण करने से कई रोगों से मिलती है मुक्ति, जानें किस रत्न से क्या होता है लाभ - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

03 September 2020

इन रत्नों को धारण करने से कई रोगों से मिलती है मुक्ति, जानें किस रत्न से क्या होता है लाभ

जीवन में रत्नों का विशेष महत्व है। हमारे धार्मिक और ऐतिहासिक ग्रंथों में अलग—अलग रत्नों व मणियों का उल्लेख किया गया है। रामायण, महाभारत, देवी भागवत, गरुण पुराण, नारद पुराण, चरक सहिंता आदि धार्मिक ग्रंथों में मोती, माणिक्य, हीरा, स्फटिक, पन्ना, मूंगा जैसे रत्नों को धारण करने और इनके चिकित्सकीय लाभ का भी उल्लेख किया गया है। ग्रंथों में मिले उल्लेख के अनुसार ह्रदय रोग, नेत्र रोग, अस्थि विकार, चर्म रोग, मिर्गी, ज्वर प्रकोप, चक्कर आना, सिर दर्द आदि रोगों से बचने के लिए सूर्य से सम्बंधित रत्न माणिक्य धारण करना चाहिए। यदि किसी कारण वश माणिक्य धारण करने में दिक्कत हो तो इसका उपरत्न लाल हकीक, सूर्यकांत मणि या लालड़ी तामडा को धारण करना लाभकारी होता है।

जुकाम, खांसी, मानसिक रोग, नींद न आना, रक्त विकार, तपेदिक, मुख रोग, बेचैनी, घबराहट, श्वास संबंधी रोग, बच्चों के रोग आदि से मुक्ति के लिए चन्द्र ग्रह से सम्बंधित रत्न मोती या इसका उपरत्न सफेद पुखराज या चंद्रकांत मणि को धारण करना चाहिए। त्वचा रोग, ब्लड प्रेशर, कमजोरी, कोढ़, शरीर में जलन, पित्त विकार, रक्तार्श, दुर्घटना आदि से बचने के लिए मंगल ग्रह से सम्बंधित रत्न मूंगा या इसका उपरत्न तामडा धारण करना लाभकारी होता है।

त्वचा रोग, मानसिक विकार, नेत्र रोग, तुतलाहट, किसी तरह की सनक, सांस नली के रोग, मिर्गी, नाक और गले के रोग आदि से बचाव के लिए बुध ग्रह से सम्बंधित रत्न पन्ना या इसका उपरत्न हरा जिरकॉन, हरा हकीक या फिरोजा धारण करना फायदेमंद होता है। याददाश्त का कमजोर होना, गुल्म रोग, मोटापा, पेट के रोग, आंत्र रोग, कर्ण रोग, कफ जनित रोग, शरीर में सूजन, बेहोशी आना आदि से बचने के लिए गुरु अर्थात बृहस्पति ग्रह से सम्बंधित रत्न पुखराज या इसका उपरत्न सफेद जिरकोन, सुनेला या पीला मोती धारण करने से लाभ मिलता है।

मधुमेह, पीलिया, अतिसार, एड्स, महिलाओं के रोग, पुरुषों के गुप्त रोग, मूत्र विकार, नेत्र रोग, नपुंसकता, शारीरिक कमजोरी आदि से छुटकारा पाने के लिए शुक्र ग्रह से सम्बंधित रत्न हीरा या इसका उपरत्न श्वेत जिरकोन धारण करना लाभकारी माना गया है। पथरी, गठिया, अस्थि एवं जोड़ों के विकार, वात जनित रोग, कैंसर, बवासीर, स्नायु जनित रोग, पोलियो, शारीरिक और मानसिक थकान, पेरालायसिस आदि से बचने के लिए शनि ग्रह से सम्बंधित रत्न नीलम या इसका उपरत्न नीला जिरकॉन या नीला कटेला धारण करना फायदेमंद होता है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment