चीन ने कबूला, गलवान घाटी में हुए खूनी संघर्ष में कितने सैनिक मारे गए - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

25 September 2020

चीन ने कबूला, गलवान घाटी में हुए खूनी संघर्ष में कितने सैनिक मारे गए

 

पेइचिंग। पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में बीते 15 जून को भारत और चीन के बीच हुए हिंसक झड़प में चीन के कितने सैनिक मारे गए थे इस बात का खुलासा हो गया है। द हिंदू में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार चीन ने भारत के साथ हुई  बैठक में पहली बार इस बात का खुलासा किया है बीते 15 जून को गलवान घाटी में हुए संघर्ष में उसके 5 सैनिक मारे गए थे। मारे गए चीनी सैनिकों में एक कमांडिंग ऑफिसर भी शामिल था। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले चीन ने केवल एक जवान के मरे जाने की बात कबूली थी। गौरतलब है इस खूनी संघर्ष में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे। आपको बता दें कि चीन भले ही 5 सैनिकों के ही मारे जाने की बात कह रहा हो लेकिन अमेरिकी और भारतीय खुफिया एजेंसियों के मुताबिक कम से कम 40 चीनी जवान इस हिंसक झड़प में मारे गए थे।

भारत और चीन के बीच चल रहे कमांडर स्तर की बातचीत में एक मजेदार बात निकल कर सामने आई है वह यह है कि  पूर्वोत्‍तर सीमा क्षेत्र पर भारत और चीन विवादित क्षेत्रों में साप्‍ताहिक रोटेशन के आधार पर गश्‍त लगाते हैं। इसके साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि यही तरीका पूर्वी लद्दाख में भी अपनाया जा सकता है। इस वक्त पूर्वी लद्दाख के देपसांग, पैंगोंग झील के नॉर्थ और साउथ बैंक, पेट्रोलिंग प्‍वाइंट 17A, रेजांग ला और रेचिन ला में दोनों ही सेनाएं आमने सामने हैं।

गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प से सबक लेते भारत ने चीन को साफ शब्दों में बता दिया है कि हमारे सैनिक अपनी सुरक्षा और पूर्वी लद्दाख में अपनी सीमा की सुरक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। एक अधिकारी ने पहचान गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि चीन को साफ संदेश दिया गया है कि धक्का-मुक्की और झड़प की कार्रवाई अब बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अगर सीमा क्षेत्र में हालात नियंत्रण से बाहर हुए तो हमारे सैनिक गोलियां चलाने से भी तनिक भी नहीं हिचकेंगे।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment