हाथरस की बेटी के साथ हुई दरिंदगी, तो नेताओं और मीडिया पर भड़के कुमार विश्वास, पढ़िए ट्वीट - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

30 September 2020

हाथरस की बेटी के साथ हुई दरिंदगी, तो नेताओं और मीडिया पर भड़के कुमार विश्वास, पढ़िए ट्वीट

हर मसले को लेकर अपनी बेबाकी से देश को हिलाने वाले हिंदी साहित्य के सर्वविख्यात कवि कुमार विश्वास ने हाथरस में बेटी के साथ हुई दरिंदगी पर अपना रोष जाहिर करते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि  ‘हाथरस की बेटी का शाप हमारे सिर पर है। बच्चियां अभी उसी हाल में है। नेतागण अभी बिजी हैं। देश का चौथा खंभा राजविदूषकों के यहां चरस की पुड़िया ढूंढने में बिजी है। सभ्यता के पतन का मार्ग इन दिनों जीडीपी की तरह ईजी है। ईश्वर ही राह दिखाए’। उनका यह ट्वीट अभी जमकर वायरल हो रहा है। लोग इस पर जमकर अपना रिएक्शन दे रहे हैं।

यहां पर हम आपको बताते चले कि गत 14 सितंबर को जिस हाथरस की बेटी के साथ चार दरिंदों ने मिलकर सामूहिक दुष्कर्म किया था। इसके बाद उसका गला दबाकर हत्या कर दी थी। फिर उसे मरा समझकर वहां से फरार हो गए। इसके बाद फौरन पीड़िता को जवाहर लाल मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया, लेकिन बाद में उसकी हालत बिगड़ने के बाद फौरन उसे सफदरजंग अस्पताल में भर्ती करवाया गया। पूरा देश हाथरस की बेटी की सलामती की दुआएं मांग रहा था, लेकिन मंगलवार को वो जिंदगी और मौत से जंग हार गई..उसने दरिंदों की इस दुनिया को हमेशा-हमेशा के लिए अलविदा कह दिया है, जहां पर अब इंसाफ के लिए कोई जगह नहीं रह गई है। अब यहां पर अगर किसी का दबदबा रह गया है तो वो है सिर्फ दरिंदों का।

इतना ही नहीं, कानून-व्यवस्था को महफूज रखने वाले इन खााकीवर्दी वालों का रवैया भी सवाल खड़े करता है। परिजनों के मुताबिक, बार-बार कहने के बावजूद भी एफआईआर दर्ज करने में देरी की गई है। इस मामले में पुलिस की शिथिल कार्रवाई भी संजीदा सवालों को खड़े करती है। उधर, हाथरस की बेटी के साथ हुई इस दरिंदगी को लेकर अब पूरा देश रोष में है। हर कोई आरोपी को सख्त से सख्त सजा दिलवाने की मांग कर रहा है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment