कांग्रेस में फिर फूटा लेटर बम, पार्टी को इतिहास का हिस्सा होने से बचाने की उठी मांग - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

07 September 2020

कांग्रेस में फिर फूटा लेटर बम, पार्टी को इतिहास का हिस्सा होने से बचाने की उठी मांग

 

कांग्रेस में संगठनात्मक बदलाव की मांग की चिंगारी अब धंधकने लगी है। इसी का नतीजा पार्टी में रह—रह कर बदलाव की मांग बढ़ती जा रही है। कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं की ओर से पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष को भेजी गई चिट्ठी का मामला अभी शांत भी नहीं पाया था कि एक और लेटर बम ने पार्टी को एक बार फिर अस्थिर कर दिया है। इस बार यह मामला उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी के क्षेत्र से है। बीते वर्ष कांग्रेस से निष्कासित 9 नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिख कर सलाह दी है कि परिवार के मोह से ऊपर उठें और पार्टी को इतिहास का हिस्सा बनने से बचा लें।

गौरतलब है कि इस चिट्ठी के बाद से कांग्रेस की यूपी प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा निशाने पर आ गई हैं। क्योंकि पार्टी के अधिकत्तर नेता प्रियंका गांधी वाड्रा से नाखुश नजर आ रहे हैं। पूर्व सांसद संतोष सिंह, पूर्व मंत्री सत्यदेव त्रिपाठी, पूर्व विधायक विनोद चौधरी, नेक चंद पांडेय, भूधर नारायण मिश्रा, स्वयं प्रकाश गोस्वामी और संजीव सिंह के हस्ताक्षर वाले इस पत्र में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। इतना ही नहीं लेटर में यह भी आशंका जताई गई है कि आपको (सोनिया गांधी) राज्य के मामलों के प्रभारी की तरफ से मौजूदा स्थिति से अवगत नहीं कराया जा रहा है। नेताओं ने लिखा कि वह लगभग एक वर्ष से आप से मिलने का समय मांग रहे हैं, लेकिन आप से मिलने नहीं दिया जा है।

पार्टी से निष्कासित किए जाने के खिलाफ केंद्रीय अनुशासन समिति में अपील भी की थी, लेकिन इस पर विचार करने के लिए समिति को समय ही नहीं मिला। चिट्ठी में आरोप लगाया गया है कि पार्टी के पदों पर उन लोगों का कब्जा है जो वेतन के आधार पर काम कर रहे हैं। आलम यह है कि ऐसे लोग पार्टी के प्राथमिक सदस्य भी नहीं हैं। जो नेता पार्टी की विचारधारा तक को नहीं जानते, उन्हें यूपी में पार्टी की दशा सुधारने का जिम्मा सौंपा गया है। ऐसे नेता उन नेताओं के प्रदर्शन का आकलन कर रहे हैं जो वर्ष 1977-80 के संकट के दौरान कांग्रेस के साथ मजबूती से खड़े थे।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment