दुनिया के 5 बड़े हवाई हादसे, जिन्होंने रोक दी कइयों की साँसें - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

15 September 2020

दुनिया के 5 बड़े हवाई हादसे, जिन्होंने रोक दी कइयों की साँसें

 दुनिया भर में कई बार दुनिया के अलग-अलग कोनों में प्लेन क्रैश हुये हैं। ये प्लेन में अलग-अलग तरह की दिक्कतों के चलते अपने अंज़ाम को मिले हैं। आपको बता दें कि बीते सोमवार को इंडोनेशिया प्लेन क्रैश ने एक बार फिर से सबको डरा दिया है। इस प्लेन में 189 लोग सवार थे। हालाँकि कितने लोगों की इस हादसे में जान गयी है, इसकी अभी तक कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। ख़बर है कि प्लेन ने जैसे ही उड़ान भरी थी उसके कुछ ही देर बाद प्लेन से संपर्क टूट गया और थोड़ी देर के बाद ही प्लेन के क्रैश होने की ख़बर आ गयी। इससे दुनिया सकते में आ गयी। ग़ौरतलब है कि इस प्लेन को उड़ा रहे दो पायलट में एक दिल्ली के मयूर विहार के रहने वाले 31 वर्षीय भव्य सुनेजा भी थे। आइए नज़र डालते हैं दुनिया के ऐसे ही 5 हैरान कर देने वाले हवाई हादसों पर।

डेल्टा एयरलाइन हादसाः
साल 1985 में 2 अगस्त को टेक्सास के डलास में दोपहर बाद का मौसम कुछ खराब था। तापमान अधिक था, लेकिन नमी भी थी। दोपहर बाद 4:03 बजे डेल्टा एयरलाइन की फ्लाइट 191 ने रनवे से उड़ान भरी ही थी। इस लॉकहीड एल-1011-385-1 में 167 यात्री सवार थे। 800 फीट की ऊंचाई पर कुछ विचित्र घटा। एक विस्फोट हुआ और कुछ ही सेकंड में विमान रनवे और हाईवे पर आ गिरा। इसकी चपेट में एक वाहन आ गया। इसमें 137 लोगों की जान चली गयी।
यूएस एयर फ्लाइट 427 हादसा:
साल 1987 में 8 सितंबर को अमेरिकी एयर फ्लाइट 427 का बोइंग 727 पिट्सबर्ग इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास पहुंचा। यह 6,000 फीट की ऊंचाई पर था, तभी अचानक रडार लेफ्ट साइड में खिसक गया। प्लेन गोता खाने लगा। क्रू ने इसे नियंत्रित करने की काफी कोशिश की, लेकिन इसे रोका नहीं जा सका। विमान में 132 लोग सवार थे।
S-3 E-6 वालू जेट फ्लाइट 572 हादसाः
साल 1996 में 11 मई को वालू जेट फ्लाइट 572 को फ्लोरिडा स्टेट की मियामी सिटी के इंटरनेशनल एयरपोर्ट से 110 लोगों को लेकर अटलांटा के लिए उड़ान भरी थी। इसके कार्गो कंपार्टमेंट में आग लगने से इलेक्ट्रिक आपूर्ति में गड़बड़ी आई और पायलट ने नियंत्रण खो दिया।
स्विसएयर फ्लाइट 111 हादसाः
स्विसएयर की फ्लाइट 111 (मैकडोनेल डगल एमडी 11) न्यूयॉर्क से जिनेवा जा रही थी। कॉकपिट से धुआं निकला और चार मिनट बाद पायलट ने हालिफैक्स की ओर विमान को नीचे किया। यह नोवा स्कोटिया से 65 किमी दूर अटलांटिक सागर में जा गिरा। विमान में 229 यात्री सवार थे।
TWA फ्लाइट 800- बोइंग 747 हादसाः
साल 1996 में 17 जुलाई को जेएफके इंटरनेशनल एयरपोर्ट से पेरिस के लिए उड़ान भरी थी, लेकिन यह अटलांटिक सागर में डूब गया। विमान में 230 लोग सवार थे। इस विमान के मलवे को आज तक नहीं खोजा जा सकता है।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment