48 कोरोना मरीजों की मौत के बाद जागा लखनऊ प्रशासन, चंदन समेत इन चार निजी अस्पतालों को नोटिस जारी - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

23 September 2020

48 कोरोना मरीजों की मौत के बाद जागा लखनऊ प्रशासन, चंदन समेत इन चार निजी अस्पतालों को नोटिस जारी

 

लखनऊ। कोरोना संक्रमण को लेकर जहां एक तरफ सूबे की योगी सरकार किसी तरह बड़े बड़े दवे कर रही है, वहीं सरकार की नाक के नीचे राजधानी लखनऊ के प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना में मरीजों के साथ बड़ी लपरवाही का मामला सामने आया है। दरसअल इन अस्पतालों में कोरोना मरीजों की जांच, शिफ्टिंग और इलाज में बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है। चंदन सहित शहर के चार प्राइवेट अस्पतालों से कुल 48 कोरोना संक्रमित रेफर और भर्ती किए गए थे। खबरों के मुताबिक इलाज के दौरान इन सभी कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो गई। मामला प्रकाश में आने के बाद लखनऊ के जिलाधिकारी ने चारों निजी अस्पतालों को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। जारी किए गए नोटिस के अनुसार, इसमें लापरवाही बरतने वाली निजी अस्पतालों के खिलाफ ऐपिडेमिक ऐक्ट के तहत सख्त कार्रवाई भी होगी।

नियम के अनुसार, इस वक्त अस्पतालों में आने वाले सामान्य मरीजों की भी पहले कोरोना जांच होनी चाहिए। लेकिन खबरों के मुताबिक कई जगह मरीजों की कोरोना जांच किए बिना उन्हें भर्ती कर लिया गया। इलाज के दौरान जब मरीज की तबीयत बिगड़ी तो इन मरीज की कोरोना जांच करवाई गई तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके अलावा कई अस्पतालों में कोरोना संक्रमितों को शिफ्ट करने में देरी के भी मामले सामने आए है। जिला प्रशासन की ओर से जारी नोटिस के मुताबिक, इन अस्पतालों से रेफर और भर्ती किए गए सभी 48 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई।

मामले को लेकर डीएम अभिषेक प्रकाश ने कहा कि प्रथमदृष्टया मरीजों की जांच में लापरवाही सामने आई है। इस पर अस्पतालों से जवाब मांगा गया है। अस्पतालों से पूछा गया है कि आखिर क्या वजह है कि अब तक भेजे गए सभी कोविड संक्रमितों की मौत हो गई। अस्पतालों को नोटिस के साथ दम तोड़ने वाले संक्रमितों की सूची भी सौंपी गई है। डीएम ने बताया कि जवाब मिलने के बाद अस्पताल कार्रवाई की रूपरेखा तय की जाएगी।

इन खामियों की आशंका- नॉन कोविड मरीजों के पहुंचने पर उनका कोविड टेस्ट देर से करवाया गया। टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद समय से मरीज को उपचार के लिए कोविड-19 हॉस्पिटल रेफर नहीं किया गया। अस्पतालों में प्रोटोकॉल के अनुरूप होल्डिंग एरिया न होने से मरीजों को दिक्कतें हुईं।

इन्हें मिला नोटिस- अपोलो हॉस्पिटल: 17 संक्रमित भेजे गए थे। सभी की मौत हो गई।
मेयो हॉस्पिटल: 10 कोविड-19 मरीज भेजे गए। सभी की जान चली गई।
चरक हॉस्पिटल: 10 संक्रमित भेजे गए। सभी ने दम तोड़ दिया।
चंदन हॉस्पिटल: 11 कोविड-19 मरीज भर्ती हुए। सबकी सांसें उखड़ गईं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment