Happy Birthday Kishore Da: दिलचस्प है किशोर कुमार की जिंदगी शब्दों में बयां करना मुश्किल - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

04 August 2020

Happy Birthday Kishore Da: दिलचस्प है किशोर कुमार की जिंदगी शब्दों में बयां करना मुश्किल

सुरों के सम्राट और बेहतरीन अभिनेता किशोर कुमार जिन्होंने अपनी गायकी और अभिनय से दर्शकों के दिलों में वो जगह बनाई है, जिसे कोई पूरा नहीं कर सकता है। आज भी दर्शकों के जेहन में किशोर कुमार मौजूद हैं। 4 अगस्त 1929 को जन्में किशोर कुमार का असली नाम आभास कुमार गागुंली है। मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में गांगुली परिवार में जन्में किशोर कुमार के पिता का नाम कुंजालाल गांगुली और माता का नाम गौरी देवी था।

उनके पिता कुंजीलाल, खंडवा के बहुत बड़े वकील थे। जानेमाने अभिनेता अशोक कुमार उनके सबसे बड़े भाई थे। अशोक कुमार से छोटी उनकी बहन और उनसे छोटा एक भाई अनूप कुमार था। किशोर कुमार अपने भाई बहनों में सबसे छोटे थे। किशोर कुमार ने इन्दौर के क्रिश्चियन कॉलेज से पढ़ाई की थी। उनकी आदत थी कॉलेज कि कैंटीन से उधार लेकर खुद भी खाना और दोस्तों को भी खिलाना। उनकी जिंदगी के किस्से के बारें में जितना कहा जायें उतना ही कम है।

ये तो हम सभी जानते हैं कि किशोर कुमार गायक के साथ-साथ अभिनेता भी थें। उनके अभिनेता बनने का किस्सा भी बहुत ही दिलचस्प है। बताया जाता है कि किशोर कुमार कभी भी अभिनय की दुनिया में नहीं आना चाहते थे। वहीं उनके बड़े भाई और अभिनेता अशोक कुमार उन्हें अभिनेता बनाना चाहते थे। किशोर कुमार हमेशा कोई न कोई बहाना बनाकर शूटिंग से निकल जाया करते थे। लेकिन एक बार किशोर कुमार फंस गए और उसके बाद ही उनका अभिनय का सफर शुरू हो गया।

एक बार किशोर कुमार को अपने भाई अशोक कुमार के साथ फिल्म भाई-भाई के लिए सीन शूट करना था। किशोर कुमार ने खूब बहानेबाजी की लेकिन इस बार उनके भाई अशोक कुमार उनके सामने थे। किशोर ने डायलॉग भूल जाने तक का नाटक किया और सीन से बाहर भागने लगे, लेकिन अशोक कुमार ने किशोर कुमार के दोनों पैरों पर अपना पैर रख दिया और उन्हें हिलने का भी मौका नहीं दिया।तब जाकर कहीं ये सीन शूट हो सका।


किशोर कुमार की पर्सनल लाइफ की बात करें तो कहा जाता है किशोर कुमार बड़े ही दिल फेंक आशिक थे। उनका एक बार नहीं बल्कि चार-चार बार दिल धड़का। किशोर की पहली पत्नी बंगाल की अभिनेत्री रूमा घोष थीं, जो उन्हें छोड़कर चली गईं। फिर उन्होंने मधुबाला के साथ शादी की, पर मधुबाला का पहला और आखिरी प्यार सिर्फ दिलीप साहब ही रहे। उन्होंने मधुबाला के साथ शादी रचाई। मधुबाला के लिए उन्होंने अपना धर्म भी बदल लिया था और अपना नाम करीम अब्दुल रख लिया।

कुछ सालों बाद मधुबाला ने दुनिया को अलविदा कह दिया। किशोर कुमार ने फिर योगिता बाली के साथ शादी की जो सिर्फ दो साल तक चला और फिर 1980 में किशोर कुमार ने लीला चंदावरकर से शादी की। किशोर दा ने हिंदी के अलावा तमिल, मराठी, गुजराती, कन्नड़, भोजपुरी, मलयालम और उड़िया भाषाओं में भी गाने गाए। उन्होंने कुल 574 फिल्मों में गाने गाए। उन्होंने आठ बार सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक का फिल्म फेयर पुरस्कार जीता।

अपने बड़े भाई अशोक कुमार के जन्मदिन के दिन ही 13 अक्टूबर 1987 को दिल का दौरा पड़ने से किशोर कुमार का निधन हो गया। भले ही किशोर कुमार आज हमारे बीच में नहीं हैं, लेकिन अपने गानों के माध्यम से वो हमेशा अमर रहेंगे।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment