दुनिया के इन देशों में चल रहा क्लीनिकल ट्रायल, इस देश ने पहले बना ली कोरोना वैक्सीन! - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

02 August 2020

दुनिया के इन देशों में चल रहा क्लीनिकल ट्रायल, इस देश ने पहले बना ली कोरोना वैक्सीन!

चीन के वुहान शहर से फैला कोरोनावायरस आज पूरी दुनिया में अपना विष फैलाने में कामयाब हो गया है, इस महामारी की चपेट में लगभग डेढ़ करोड़ से भी अधिक लोग आ चुके हैं. जबकि छह लाख 80 हजार से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि कब तक लोगों की और जानें जाएंगी?. कब इसकी वैक्सीन तैयार होगी?. चूंकि कोरोना वायरस का आंकड़ा इतना भयावह हो चला है कि आए दिन लाखों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है. जो सरकार से लेकर वैज्ञानिकों के लिए एक प्रमुख चिंता का विषय बना हुआ है. हालांकि इस महामारी को रोकने के लिए कई देशों में बड़े पैमाने पर रिसर्च चल रही हैं, और तो और क्लीनिकल ट्रायल का परीक्षण भी शुरू हो चुका है। वहींं इस बीच कोरोना की वैक्सीन को लेकर 23 परियोजनाओं पर काम चल रहा है, जिसमें से कुछ के ट्रायल अंतिम चरण में हैं यानी कभी भी दुनिया में वैक्सीन का इजाद हो सकता है।
इस बीच कोरोना वैक्सीन को लेकर रूस से एक अच्छी खबर आ रही है, दरअसल यहां के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराश्को का कहना है कि सरकार अक्तूबर में नागरिकों को वैक्सीन देने की योजना बना रही है और इसके लिए बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान चलाने की तैयारी हो रही है।
रूसी मीडिया के मुताबिक, स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराश्को ने कहा है कि सबसे पहले डॉक्टरों और शिक्षकों को कोरोना
की वैक्सीन दी जाएगी। उसके बाद ही अन्य नागरिकों तक इसे पहुंचाया जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रूस की इस संभावित वैक्सीन को इस महीने नियामकों की मंजूरी मिल जाएगी।
वहीं भारत में वैक्सीन के दो प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है, इसमें आईसीएमआर और भारत बायोटेक द्वारा तैयार वैक्सीन भी शामिल है, जिसका नाम ‘कोवैक्सीन’ (Covaxin) है. मालूम हो कि दुनिया के इन देशों में वैक्सीन का काम अंतिम
चरण पर चल रहा है, जिसमें भारत, रूस, अमेरिका, ब्रिटेन शामिल हैं। रूस की इस वैक्सीन को मॉस्को के गमलेया इंस्टीट्यूट ने विकसित किया है, जो दूसरे चरण पर है. उम्मीद की जा रही है कि बहुत जल्द कोरोना की वैक्सीन तैयार कर ली जाएगी। वैज्ञानिकों की मानें तो साल भर का अंतराल लग सकता है।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment