दुनिया में बढ़ी पहली कोरोना वैक्सीन की मांग, रूस ने मांगी भारत से ये मदद - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

21 August 2020

दुनिया में बढ़ी पहली कोरोना वैक्सीन की मांग, रूस ने मांगी भारत से ये मदद

कोरोना महामारी को काबू में करना इस वक़्त सबसे ज्यादा जरुरी हो चुका हैं, विश्व के सभी देश इसकी मार झेल रहे हैं। इस बीच रूस ने दावा किया है कि उसने संक्रमण की वैक्सीन तैयार कर ली है लेकिन अब उसे भारत की मदद चाहिए। रूस कोरोना की पहली वैक्सीन स्पुतनिक वी का ज्यादा ज्यादा उत्पादन चाहता है। इस काम में उसकी भारत ही मदद कर सकता है जिसे देखते हुए वैक्सीन के उत्पादन में भारत के साथ रूस पार्टनरशिप करना चाहता है। जिसके बाद बड़ी संख्या में वैक्सीन बन सके, जो ज्यादा ज्यादा से लोगों तक पहुंच सके। दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन स्पुतनिक वी को रूस के गामालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबॉयोलॉजी ने रशियन डाइरेक्ट इंवेस्टमेंट फंड (RDIF) के साथ मिलकर बनाया है। खासबात यह है कि इस वैक्सीन के तीसरे चरण में अब तक क्लीनिकल ट्रायल नहीं किया गया है।

इस वैक्सीन को लेकर मित्रेव का कहना है कि विश्व के कई देश इस वैक्सीन की मांग बड़े स्तर पर करने लगे हैं। इसलिए अब इसका बड़े स्तर पर उत्पादन करने की जरुरत है। रूस का यह साफ़ मानना है कि जिस स्तर पर वैक्सीन की मांग है और उसका उत्पादन करना है उसे सिर्फ भारत ही कर सकता है। स्पुतनिक वी को लेकर रूस का कहना है कि हमने वैक्सीन के शोध में विस्तार किया है और इस (विश्लेषण) Analysis में पाया है कि दक्षिण कोरिया, क्यूबा, ब्राजील और भारत में ऐसे देश हैं जहां बड़ी संख्या में वैक्सीन बनाई जा सकती है।

विश्व की पहली कोरोना वैक्सीन के उत्पादन के लिए इनमे से कोई भी देश अंतरराष्ट्रीय हब बन सकता है। रूस का मानना है कि भारत में सालाना करीब पांच करोड़ वैक्सीन बनाई जा सकती हैं। इसके लिए भारत की किसी ड्रग मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी से भी जल्द संपर्क किया जाएगा। रूस इस वैक्सीन को लेकर भारत, ब्राजील और सऊदी अरब में भी क्लीनिकल ट्रायल शुरू करने का विचार कर रहा है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment