हताश हो चुके आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमले के लिए अपनाई यह रणनीति - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

20 August 2020

हताश हो चुके आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमले के लिए अपनाई यह रणनीति

भारतीय सुरक्षाबल लगातार घाटी में आतंकियों का सफाया कर रहे हैं, जिसके बाद आतंकियों ने भी अपनी रणनीति में बड़ा बदलाव किया है। आतंकी अब नाके पर तैनात सुरक्षाबल के कर्मियों को हिट एंड रन रणनीति के तहत निशाना बना रहे हैं। आतंकियों ने जब अपनी रणनीति में बदलाव किया है तो फिर अब सेना भी अपनी रणनीति में बदलाव करेगी। घाटी में पिछले दिनों सुरक्षबलों पर हुए हमलों में देखने को मिला है कि आतंकी बेहद नजदीक आकर हमले को अंजाम दे रहे हैं। जिससे ज्यादा से ज्यादा नुकसान सेना को पहुंचाया जा सके। बीते दिनों हुए आतंकी हमले में सुरक्षाबल के पांच जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं। जिसमे तीन जम्मू कश्मीर पुलिस और दो सीआरपीएफ के जवान थे।

जेके पुलिस और एसएसबी की संयुक्त नाका पार्टी पर श्रीनगर के नौगाम में स्वतंत्रता दिवस के एक पहले 14 अगस्त को हमला किया गया जिसमे दो जवान पुलिस के शहीद हुए। जिसके बाद सीआरपीएफ और पुलिस की संयुक्त नाका पार्टी पर हमला हुआ जो बारामुला के क्रीरी पट्टन में पर तैनात थी। इस हमले में भी सुरक्षाबलों को भारी नुकसान हुआ और दो सीआरपीएफ, एक पुलिस का एक एसपीओ शहीद हुए। आतंकियों ने अपने हमले की रणनीति में बदलाव करके सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाया है जिसमे लश्कर-ए-तैयबा का हाथ बताया जा रहा है। इस रणनीति तहत आतंकी उस वक़्त हमला करते जब जवान तैनाती में व्यस्त होते हैं।

मौजूदा वर्ष में घाटी में 150 से ज्यादा आतंकी मारें जा चुके हैं। वहीं सेना लगातार कई ऑपरेशन भी चला रही है जिसकी वजह से नए स्थानीय आतंकी भर्ती नहीं हो रहे हैं। इस वजह से निराश आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर नई रणनीति से हमला करने का प्लान बनाया है। जिससे एक बार भी फिर अपनी मौजूदगी घाटी में दिखा सके। बताया जा रहा है इस वक़्त आतंकियों के पास हथियारों की भी कमी है जिसकी वजह से वो हमलों के बाद राइफल छीनने की भी कोशिश करते हैं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment