बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी को मिला पहला निमंत्रण, मंदिर के साथ मस्जिद का भी निर्माण कराने की उठाई मांग - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

03 August 2020

बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी को मिला पहला निमंत्रण, मंदिर के साथ मस्जिद का भी निर्माण कराने की उठाई मांग

इस वक़्त पूरी दुनिया की नजरें अयोध्या पर टिकी हुई हैं, 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों श्री राम मंदिर का भूमि पूजन होना है। जिसकी तैयारी काफी जोर शोर से चल रही है। अयोध्या के अध्याय वक़्त आने वाला है जिनका इंतज़ार वर्षों से करोड़ों राम भक्तों को था। 5 अगस्त को होने वाले भव्य कार्यक्रम के लिए 200 लोगों को निमंत्रण भेजा गया है। जिसमे बाबरी मस्जिद पक्षकार रहे इकबाल अंसारी का नाम भी शामिल है। इकबाल अंसारी का राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम शामिल होने का निमंत्रण मिलने पर कहना है कि यह भगवान राम की इच्छा थी कि मुझे पहला निमंत्रण मिले, मैं इसे स्वीकार करता हूं। उनका कहना है कि देश के पीएम राम मंदिर की आधारशिला रखने अयोध्या आ रहे हैं जिसका हम उनका स्वागत करेंगे। उन्हें राम नाम वस्त्र के साथ हिंदुओं के पवित्र ग्रंथ रामचरितमानस की पुस्तक भी भेंट करेंगे।
गौरतलब है कि बाबरी मस्जिद की पैरोकारी इकबाल अंसारी से पहले उनके पिता हाशिम अंसारी किया करते थे। उन्होंने वर्ष 2010 में जब हाई कोर्ट के द्वारा जब मंदिर मस्जिद विवाद पर फैसला सुनाने वाली थी तो कहा था कि कोर्ट का जो भी फैसला होगा वो उन्हें मंजूर होगा। भले फैसला मंदिर के ही हक में क्यों न आये। घर के सामने जमीन मिलने पर इकबाल अंसारी ने कहा है कि इससे देश में सौहार्द और एकता का संदेश जायेगा और इस जमीन पर एक स्कूल और एक महिला हॉस्पिटल का निर्माण करवाएंगे।
राम मंदिर को लेकर इकबाल अंसारी का कहना है कि राम जन्म भूमि मामले पर जो भी विवाद था उस पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट द्वारा जो भी जमीन दी है वह अभी चिन्हित नहीं है ऐसे में मेरी यह मांग है कि राम मंदिर बने और मंदिर के साथ ही मस्जिद का भी निर्माण किया जाए।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment