ओवैसी ने गुलाम नबी आजाद को दी चुनौती, कहा— आत्मसम्मान हो तो छोड़ दें कांग्रेस - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

30 August 2020

ओवैसी ने गुलाम नबी आजाद को दी चुनौती, कहा— आत्मसम्मान हो तो छोड़ दें कांग्रेस


कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर 23 वरिष्ठ नेताओं की ओर से सोनिया गांधी को लिखी गई चिट्ठी के बाद पार्टी असहज की स्थिति में आ गई है। पार्टी के अन्य नेता जहां एक तरफ चिट्ठी लिखने वालों से माफी मांगने की बात कर रहे हैं वहीं शीर्ष नेतृत्व भी इन नेताओं से खफा है। ऐसा माना जा रहा है कि चिट्ठी लिखने वालों पर कांग्रेस पार्टी की तरफ से एक्शन लिया जा सकता है। ऐसे में एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद पर तीखा हमला बोला है। ओवैसी ने एक ऑनलाइन रैली को सम्बोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, गुलाम नबी आजाद ने कभी हमें भाजपा की B टीम कहा था। अब उनकी ही पार्टी ने उन पर भाजपा के साथ मिले होने का आरोप लगा रही है। ऐसे में उनमें जरा सा भी आत्मसम्मान बचा है तो उन्हें तत्काल कांग्रेस से इस्तीफा दे देना चाहिए।

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी में काफी दिनों से स्थाई तौर पर कोई अध्यक्ष नहीं है। राहुल गांधी की तरफ से अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद सोनिया गांधी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष बनी हुई हैं। वहीं भाजपा परिवारवाद को लेकर कांग्रेस पर हमलावर बनी हुई है। ऐसे में पार्टी के नेताओं का चिंति​त होना लाजिमी है। इस बारे में पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने भी कहा था कि चुनाव में लगातार हार के चलते कार्यकर्ताओं में निराशा का माहौल है। इस माहौल को बदलने के लिए पार्टी में नए सिरे से जिम्मेदारी तय करते हुए नया अध्यक्ष दिया जाना चाहिए। हालांकि उन्होंने अध्यक्ष पद के तौर पर राहुल गांधी में विश्वास व्यक्त किया।

बता दें कि कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं ने सोनिया गांधी को पत्र लिख कर पार्टी में बड़े बदलाव करने का सुझाव दिया था। इन लोगों का सुझाव था कि परिवार से हट कर पार्टी में अध्यक्ष का चुनाव किया जाए। इसी के बाद कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व हरकत में आ गया और लेटर में लिखे सुझावों पर गंभीरता से विचार करने की जगह लेटर लिखने वालों को ही कठघरे में खड़ा करने का प्रयास किया जाने लगा। कांग्रेस कार्यसमित की बैठक में राहुल गांधी ने गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल सरीखे वरिष्ठ नेताओं पर भाजपा से मिले होने का आरोप तक लगा डाला। वहीं राजनीतिक गलियारों में चल रही चर्चाओं की मानें तो चिट्ठी लिखने वाले नेताओं को पार्टी ने इस समय हाशिए पर ढकेल दिया है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment