अपने ही आविष्कार की चपेट में आकर हुई इन विद्वानों की मौत - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

28 August 2020

अपने ही आविष्कार की चपेट में आकर हुई इन विद्वानों की मौत


जरूरी नहीं कि आप जो काम कर रहे हैं उसका अनजाम दुनिया के लिए मिसाल कायम करे। बता दें कि आप कई बार लो ग दुनिया की भलाई के लिए काम करते हैं। मगर इसका अंजाम उनको भुगतना पड़ता है। इसी के साथ ही कई बार लोगों को लगता है कि उनका किया हुआ काम आप ही दुनिया के लिए कारगर है। मगर आपको बता दें कि दुनिया में ऐसी कई नामचीन हस्तियां रही हैं जिनको आप देख सकते हैं कि दुनिया के लिए अच्छा काम किया है। मगर इनके हर काम सही नहीं रहे। इसी के साथ की लोग ऐसे भी रहे हैं जिनका मौत उनके अपने कारनमों की वजह से ही हुई है।

Valerian Abakovsky
दुनिया की सबसे तेज दौड़ने वाली ट्रेन पहली ही बनाई जा चुकी है। ये ट्रेन खासकर सोवियत संघ के एलीट नेताओं के लिए बनी थी। इसी के साथ ही इस तरह से पहले कोई भी ट्रेन नहीं बनी थी। इसको काफी तेज चलाना भी किसी चैलेंज से कम नहीं था। बता दें कि इस ट्रेन को चलाने के लिए इसमें 200 लोग बैठे थे। इस ट्रेन में आगे की तरफ हवाई जहाज का इंजन लगाकर इसको चलानेकी कोशिश की। इसके बाद इसमें 200 लोग सवार हुए और इसका परिक्षण करने के लिए इसको पटरी पर उतारा। बता दें की ट्रेन पटरी पर से उतर गयी मगर इसमें सवार 200 लोग बच गये और इसको बनाने वाले Valerian Abakovsky की मौत हो गयी।
William Bullock
दुनिया में सबसे पहले प्रिंटिंग प्रेस इनके पास ही थी। इसी के साथ ही आज के टाइम में जिस तरह से हाइटैक होती है। साथ उपकरणों और तकनीक से लेस होती है। मगर 19वीं सदी में इसको चलाने के लिए आपको मैनफॉर्स की जरूरत होती थी। इसकी चपेट में पहले भी कई लोग आ चुके थे। इसी के साथ ही ये को ई फैक्टरी के कर्मचारी भी नहीं थे इसीलिए इनको उस तरह से काम कना नहीं आता था। एक प्रिंटिंग प्रेस किस तरह से काम करती थी इसके लिए एक चक्के को गोल घुमाना होता था। इसके बाद किसी भी पेपर पर शब्द छपकर आते हैं। बता दें कि इसमें काम करते वक्त वीलियम का पैर इस मशीन के बीच में आ गया था। इसके बाद इनकी मौत हो गई थी।
Francis Edgar Stanley
दुनिया कि पेहली स्ट्रीमर गाड़ी बनाई थी। इसी के साथ ही इसको बनाने में दोनो भाई शामिल थे। बता दें कि दोनों भाइयों के लिए इसको बनाना किसी भी सपना पूरा होने से कम नहीं था। बता दें कि इस कार में बैठ कर दोनों लोगों ने इसका परिक्षण किया और इसके बाद इनकी गाड़ी का एक्सिडेंट हो गया था। बता दें कि दोनों का एक्सिडेंट रोड पर एक घोड़े को बचाने की वजह से हुआ था। इसी के साथ ही एक भाई की मौत हो गयी थी। प्रत्यक्षदर्शी बताते हैं कि उस समय उनकी गाड़ी की स्पीड 270 km/ph थी।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment