इन अमूल्य राष्ट्र रक्षा सूत्रों में छिपी है देशभक्ति की तासीर, हर रोज़ पढ़ें - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

03 August 2020

इन अमूल्य राष्ट्र रक्षा सूत्रों में छिपी है देशभक्ति की तासीर, हर रोज़ पढ़ें

भारतीय सेना के पराक्रम से पूरी दुनिया परिचित है। भारत का बच्चा-बच्चा भारतीय सेना के कारनामों और उनकी अनुशासन व एकता की बदौलत प्ररित होता है और स्वयं एक न एक दिन भारतीय सेना की वर्दी धारण करने का अपने मन में सपना संजोता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारतीय सेना और उसके कुछ जवानों के विशिष्ट विचारों ने बहुत से लोगों को प्रेरित करने का जाम किया है, जिन्हें पढ़कर सच्चे गर्व की अनुभूति होती है। आप भी भारतीय सेना के इन विचारों को पढ़िये, क्योंकि हर देशवासी को इन राष्ट्र रक्षा सूत्रों को अपने बच्चों के जहन में भरना चाहिए।
1. भारतीय सेना के स्थायी विचारः
"हमारा झण्डा इसलिए नहीं फहराता कि हवा चल रही होती है, ये हर उस जवान की आखिरी साँस से फहराता है जो इसकी रक्षा में अपने प्राणों का उत्सर्ग कर देता है।"
2. भारतीय सेना का स्थायी विचारः
"हमें पाने के लिए आपको अवश्य ही अच्छा होना होगा, हमें पकडने के लिए आपको तीव्र होना होगा, किन्तु हमें जीतने के लिए आपको अवश्य ही बच्चा होना होगा।"
3. भारतीय सेना का स्थायी विचारः
"ईश्वर हमारे दुश्मनों पर दया करे, क्योंकि हम तो करेंगे नहीं।"
4. भारतीय सेना का स्थायी विचारः
"आतंकवादियों को माफ करना ईश्वर का काम है, लेकिन उनकी ईश्वर से मुलाकात करवाना हमारा काम है।"
5. भारतीय सेना का स्थायी विचारः
"इसका हमें अफसोस है कि अपने देश को देने के लिए हमारे पास केवल एक ही जीवन है।"
6. चेन्नई की ऑफीसर्स ट्रेनिंग अकादमी में वर्णित विचारः
"हमारा जीना हमारा संयोग है, हमारा प्यार हमारी पसंद है, हमारा मारना हमारा व्यवसाय है।
7. लेह-लद्दाख राजमार्ग पर भारतीय सेना का साइनबोर्डः
"जो आपके लिए जीवनभर का असाधारण रोमांच है, वो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी है।"
8. 1/11 गोरखा राइफल्स के परम वीर चक्र विजेता कैप्टन मनोज कुमार पाण्डेय के विचारः
"यदि अपना शौर्य सिद्ध करने से पूर्व मेरी मृत्यु आ जाए तो ये मेरी कसम है कि मैं मृत्यु को ही मार डालूँगा।"
9. परम वीर चक्र विजेता कैप्टन विक्रम बत्रा के विचारः
"मैं तिरंगा फहराकर वापस आऊंगा या फिर तिरंगे में लिपटकर आऊंगा, लेकिन मैं वापस अवश्य आऊंगा।"
10. जाने-माने फील्ड मार्शल सैम मानेक शॉ के विचारः
"यदि कोई व्यक्ति कहे कि उसे मृत्यु का भय नहीं है तो वह या तो झूठ बोल रहा होगा या फिर वो इंडियन आर्मी का ही होगा।"

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment