भगवान राम ने कभी हनुमान जी को रहने के लिए दी थी ये जगह, आज है यहां भव्य मंदिर, जानें इसके रहस्य - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

02 August 2020

भगवान राम ने कभी हनुमान जी को रहने के लिए दी थी ये जगह, आज है यहां भव्य मंदिर, जानें इसके रहस्य

आगामी 5 अगस्त को सभी राम भक्तों का पांच दशकों का लंबा और संघर्षपूर्ण इंतजार अब खत्म होने जा रहा है। राम की नगरी अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण करने की दिशा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमिपूजन के लिए अयोध्या पहुंच रहे हैं। इस मौके पर कुछ अन्य लोगों को भी इस भूमि पूजन में शामिल किया जाएगा। महामारी के दृष्टिगत काफी कम लोगों के शिरकत करने की उम्मीद जताई जा रही है। राम मंदिर बनने के उपलक्ष्य पर संपूर्ण अयोध्या में खुशी की लहर है, तो इस बीच आज हम आपको अपनी इस खास रिपोर्ट में भगवान राम के परम भक्त रहे हनुमान जी के उस मंदिर और उसके रहस्य के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में आपने कभी नहीं सुना होगा।
हनुमानगढ़ी 
हनुमान जी के मंंदिर को ही हनुमानगढ़ी के नाम से जाना जाता है। आज की तारीख में यहां पर सैकड़ों की तादाद में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जब भगवान राम लंका से लौट रहे थे, तब हनुमान जी को उन्होंने यह जगह रहने के लिए दिया था। आज की तारीख में यहां पर हनुमान जी का भव्य मंदिर है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से हनुमानगढ़ी की दूरी 100 किमी दूर है। इस मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति बलिष्ठ और लाल रंग में विराजमान है।

श्रद्धालुओं के बीच है ऐसी मान्यता 
यहां पर हम आपको बताते चले कि अयोध्या में श्रद्धालुओं के बीच एक ऐसी मान्यता है। भक्तों को अयोध्या जाने से पहले हनुमानगढ़ी के दर्शन करने होते हैं। इसके बाद ही उन्हें अयोध्या जाने की अनुमति मिलती है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, जिस समय भगवान राम ने हनुमान जी को वो स्थान भेंट स्वरूप दिया गया था। उसी दिन से यह नियम लागू हो गया था कि जो कोई भी पहले अयोध्या आएगा,  तो उसे पहले हनुमानगढ़ी के दर्शन करने होंगे। तभी से यह नियम लागू है और अभी तक चलती आ रही है।

हनुमानगढ़ी की ऐसी है रूपरेखा 
हनुमानगढ़ी के ढांचे की बात करें तो हनुमान जी के दर्शन करने हेतु 76 सीढ़ियां पार करनी होती है। मंदिर में स्थित हनुमान जी की प्रतिमा फूल-मालाओं से सुशोभित रहती है। मंदिर की दीवारों पर चालिसा की चौपाइयां सुशोभित है। श्रद्धालु अपना अनुभव साझा करते हुए कहते  हैं कि लोग यहां पर शांति की अनुभूति प्राप्त करते हैं। मंदिर परिसर में बैठकर लोग वहां पर सुंदर कांड का अध्ययन करते हैं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment