AIIMS का दावा: कोविड-19 फेफड़ों को ही नहीं बल्कि शरीर का अन्य अंगों को भी प्रभावित करता है - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

27 August 2020

AIIMS का दावा: कोविड-19 फेफड़ों को ही नहीं बल्कि शरीर का अन्य अंगों को भी प्रभावित करता है


देश में अपनी जड़ें जमा चुका कोरोना वायरस अब सिर्फ सांस और फेफड़े पर ही नहीं शरीर के लगभग हर अंग को प्रभावित कर सकता है। यह दावा अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के डॉक्टरों ने किया है। उनका कहना हैं कि हम वैक्सीन खोजने का साथ साथ ही कोरोना वायरस के लक्षणों में हो रहे बदलाव पर वहीं निरंतर नजर बनाये हैं। उन्होंने कहा पहले कोरोना वायरस सिर्फ फेफड़ों को ही प्रभावित करता था, लेकिन अब यह शरीर के अन्य अंगों पर भी असर डाल रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि अब यह जरुरी नहीं है कि कोरोना वायरस का लक्षण सिर्फ छाती पर ही दिखे।

बता दें कि एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया, हृदय चिकित्सा विज्ञान विभाग के प्रोफेसर डॉ. अंबुज राय, स्नायु विभाग के प्रमुख डॉ एम वी पद्मा श्रीवास्तव, मेडिसीन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. नीरज निश्चल सहित संस्थान के कई विशेषज्ञों ने नीति आयोग के साथ मिलकर आयोजित किये गये अपने साप्ताहिक ‘नेशनल क्लीनिकल ग्राउंड राउंड्स” में कोरोना वायरस का हमारे फेफड़े पर होने वाले संभावित जटिलताओं पर चर्चा की और इस बात पर निष्कर्ष निकाला की कोविड-19 सिर्फ फेफड़ों को ही नहीं प्रभावित कर रहा। बल्कि शरीर के अन्य अंगों को भी प्रभावित कर रहा है। डॉक्टरों ने इस बात पर भी जोर दिया कि अन्य अंगों को शामिल करने के लिए, बस सांस के लक्षणों के आधार पर हल्के, मध्यम व गंभीर श्रेणियों में मामलों के वर्गीकरण पर फिर से विचार करने की आवश्यकता है।

कई मरीजों को हुई जानलेवा परेशानियां

एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया,”चूंकि हमने कोविड-19 के बारे में काफी कुछ जाना है और हमने अहसास किया है कि यह फेफड़े पर भी अपना असर दिखाता है। यह मूल तथ्य है कि कोविड-19 एसीई 2 रिसेप्टर से कोशिका में प्रवेश करता है इसलिए सांस की नली और फेफड़े को वह अधिक तेजी से प्रभावित करता है, लेकिन यह वायरस अन्य अंगो में भी अपनी मौजूद दर्ज करा देता है। इस तरह से इस वायरस ने अन्य अंग भी प्रभावित होते हैं।” डॉ.गुलेरिया कहा कि “हमने कई ऐसे मरीज देखे हैं जिन्हें फेफड़े की कम बल्कि शरीर के अन्य अंगों में अधिक परेशानी रही हैं और उनमें कोरोना वायरस के लक्षण हैं। विशेषज्ञों ने कई उदारहण भी दिये जहां मरीज को बिना लक्षण वाला या हल्के कोविड वाला बताया गया लेकिन उनमें फेफड़े के बजाय अन्य जानलेवा परेशानियां हुईं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment