ये हैं कांची के 5 सबसे प्रमुख मन्दिर, उमड़ता है आस्था का सैलाब - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

03 August 2020

ये हैं कांची के 5 सबसे प्रमुख मन्दिर, उमड़ता है आस्था का सैलाब

कांची यानी कि कांचीपुरम् दक्षिण भारत के तमिलनाडु राज्य का एक बेहतरीन और बेहद महत्वपूर्ण शहर है। इसे मन्दिरों का शहर कहा जाता है। ये बात भी काफ़ी दिलचस्प है कि कांची को दुनिया का 7वाँ सबसे पुराना शहर कहा जाता है और आज यह तमिलनाडु की एक महानगरपालिका है। इसके अलावा कांचीपुरम् एक ज़िला मुख्यालय भी है। कांची का एक और नाम काचीअम्पाठी भी है। तो आइए तमिलनाडु का एक बेहद प्रमुख शहर कांचीपुरम् या कांची के 5 सबसे प्रमुख मन्दिरों के बारे में जानते हैं।
1. कैलाशनाथ मंदिरः
कैलाशनाथ मंदिर द्रविडशैली का एक हिन्दू मंदिर है। यह कांची शहर के पश्चिम दिशा में स्थित सबसे प्राचीन और दक्षिण भारत के सबसे शानदार मंदिरों में एक है। इस मंदिर को आठवीं शताब्दी में पल्लव वंश के राजा राजसिम्हा ने अपनी पत्नी की प्रार्थना पर बनवाया था। मंदिर के अग्रभाग का निर्माण राजा के पुत्र महेन्द्र वर्मन तृतीय के करवाया था। मंदिर में देवी पार्वती और शिव की नृत्य प्रतियोगिता को दर्शाया गया है, जो बेहद रोचक है।
2. कामाक्षी अम्मन मंदिरः
मदुरै और वाराणसी के बाद कांची का कामाक्षी अम्मन मंदिर हिन्दुओं की साक्त परम्परा का सबसे पवित्र स्थान है। 1.6 एकड में फैला यह मंदिर नगर के बीचोंबीच स्थित है। मंदिर को पल्लवों ने बनवाया था। बाद में इसका पुनरोद्धार 14 वीं और 17वीं शताब्दी में करवाया गया।
3. एकम्बरनाथर मंदिरः
यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर को पल्लवों ने बनवाया था। बाद में इसका पुर्ननिर्माण चोल और विजयनगर के राजाओं ने करवाया। 11 खंड़ों का यह मंदिर दक्षिण भारत के सबसे ऊंचे मंदिरों में एक है। मंदिर में बहुत आकर्षक मूर्तियां देखी जा सकती हैं। साथ ही यहां का 1000 पिलर का मंडपम भी खासा लोकप्रिय है।
4. बैकुंठ पेरुमल मन्दिरः
भगवान विष्णु को समर्पित इस मंदिर का निर्माण सातवीं शताब्दी में पल्लव राजा नंदीवर्मन पल्लवमल्ला ने करवाया था। मंदिर में भगवान विष्णु को बैठे, खड़े और आराम करती मुद्रा में देखा जा सकता है। मंदिर की दीवारों में पल्लव और चालुक्यों के युद्धों के दृश्य बने हुए हैं।
5. अत्ति वरदराज मन्दिरः
भगवान विष्णु को समर्पित इस मंदिर में उन्हें देवराजस्वामी के रूप में पूजा जाता है। मंदिर में 100 स्तम्भों वाला एक हाल है जिसे विजयनगर के राजाओं ने बनवाया था। यह मंदिर उस काल के कारीगरों की कला का जीता जागता उदाहरण है।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment