अंधविश्वास और मौत के डर से 31 साल से बनता आ रहा औरत, ऐसी है चिंताहरण की कहानी - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

04 August 2020

अंधविश्वास और मौत के डर से 31 साल से बनता आ रहा औरत, ऐसी है चिंताहरण की कहानी

इस दुनिया में न जाने कितने ऐसे लोग हैं जो टोटके और अंधविश्वास जैसी चीजों पर विश्वास करते हैं, वहीं इन सबकी फेहरिस्त में भारतीय लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है. यहां लोग तंत्र-मंत्र के काले जादू में फंसकर रह जाते हैं, और इसकी आड़ में न जाने व क्या-क्या नहीं करते. यहां तक की किसी की बलि भी देनी हो तो वह एक बार भी नहीं संकोच करते। हालांकि विज्ञान कहता है कि कभी भी टोटका और अंधविश्वास जैसी चीजों के नजदीक न आएं. यह आपके परिवार के लिए भी हानिकारक हो सकता है।  लेकिन उत्तर प्रदेश से एक ऐसा मामला सामने आया है, जो है तो बड़ा अजीब लेकिन उस शख्स का कहना है कि आज टोटके की वजह से वह जीवित है। दरअसल चिंताहरण चौहान की कहानी कुछ ऐसी है कि सुनने वालों के रौंगटे खड़े हो जाएं। चिंताहरण चौहान की सुबह शुरू होती है एक लाल साड़ी पहनने से. फिर वो नाक में बड़ी नाथ पहनता है. झुमके, चूड़ियों से पूरा श्रृंगार करता है. ये सब इसलिए ताकि उसे मौत न आये।

यूपी के जौनपुर के रहने वाले 67 साल के चौहान की पहली शादी तब हुई थी, जब वो 14 साल के थे. लेकिन, कुछ ही समय बाद उनकी पहली पत्नी की मौत हो गई. जिसके बाद वह 21 साल की उम्र में वो पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर में नौकरी करने गए. यहां उन्हें एक ईंट की भट्टी में नौकरी मिल गई. उनका काम था मज़दूरों के लिए अनाज लेकर आना. जिस दुकान से वो अनाज लेकर आते थे, उसके मालिक से उनकी दोस्ती हो गई और करीबन 4 साल बाद उन्होंने उस मालिक की लड़की से शादी कर ली।

चिंताहरण की दूसरी शादी से परिवार वाले नाखुश थे, जिसके दवाब में आकर उन्हें उस लड़की को छोड़ना पड़ा, एक साल के बाद जब वह दिनाजपुर वापस काम करने पहुंचे, तो उन्हें पता चला कि दुकानदार की बेटी ये सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाई और उसने आत्महत्या कर ली।

ऐसा करते करते चौहान की तीसरी शादी भी हो चुकी थी, उन्होंने सोचा कि अब जिंदगी खुशहाल बीतेगी अब कोई परेशानी नहीं, लेकिन यहां उनकी मुसीबतें और ज्यादा बढ़ गई. दरअसल पश्चिम बंगाल की जिस लड़की ने आत्महत्या की थी वह उनके सपने में आती थी, उनके परिवार को कोसती थी. चूंकि परिवार के कहने पर ही उन्होंने यह शादी तोड़ी थी, लेकिन आत्मा ने एक-एक कर उसके परिवार के सभी 14 सदस्यों की जान ले ली, किसी की बुखार से मौत हुई तो किसी की पानी में डूबने से मौत हो गई।

एक दिन उसे फिर से उसकी मरी हुई पत्नी का सपना आया.  इस सपने में वो उससे माफ़ी मांग रहा था, “मैंने उससे कहा कि वो मुझे माफ़ कर दे और उसके परिवार को बख्श दे. उसने कहा कि चौहान को हमेशा एक दुल्हन की तरह सजना होगा ताकि इस रूप में वो लड़की हमेशा उसके साथ रह सके.” चौहान का दावा है कि इसके बाद से ही उसके परिवार में हो रही मौत रुक गई। वो पिछले 31 साल से एक अन्धविश्वास को ढो रहा है. लेकिन, अगर उसकी कहानी देखें, तो उसके हिसाब से इस अंधविश्वास ने उसके बच्चों की जान बचाई है, इसलिए उसे ज़रा भी अफ़सोस नहीं कि उसे 31 साल से महिलाओं की तरह रहना पड़ रहा है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment