इन 3 राशियों के लिए भारी है सितंबर का महीना, शनि की साढ़ेसाती के कारण होगा नुकसान - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

29 July 2020

इन 3 राशियों के लिए भारी है सितंबर का महीना, शनि की साढ़ेसाती के कारण होगा नुकसान

शनिदेव का प्रकोप कोई भी व्यक्ति नहीं झेल पाता। ज्योतिष शास्त्र में भी शनि की साढ़ेसाती की महादशा को काफी कष्टकारी बताया है। इस महादशा में व्यक्ति कई तरह की परेशानी का सामना करता है। जहां एक तरफ व्यक्ति के बनते काम बिगड़ जाते है। तो साथ ही उसे मिलने वाली तरक्की दूर हो जाती है या फिर यू कहें तरक्की मिलने में देरी होती है। इसी वजह से कहा जाता है कि ऐसे समय में शवि देव को खुश रखना चाहिए। क्योंकि शनिदेव कर्मफलदाता है। वह हर व्यक्ति को उसके कर्मों के हिसाब से ही फल देते है। कुछ लोगों को शनि प्रताड़ित करते हुए नजर आते है तो कुछ लोगों को शनि ही राजा बना देते है। यानि कि अगर शनि प्रसन्न है तो आपके साथ सब अच्छा ही होगा।

इन 3 राशियों पर शनि की नजर
शनि सभी ग्रहों में सबसे धीमी चाल चलता है। ढाई साल में एक बार शनि एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है और इन दिनों शनि मकर राशि में गोचर है। शनि 24 जनवरी 2020 से मकर रशि में गोचर है। जैसे ही शनि ने मकर राशि में प्रवेश किया, तो वृश्चिक राशि के जातकों को शनि की साढ़ेसाती से मुक्त मिल गई। लेकिन कुंभ राशि के जातकों पर शनि की साढ़ेसाती का पहला चरण शुरू हो गया था। इसके अलावा धनु और मकर राशि भी शनि की साढ़ेसाती की चपेट में है। सितंबर महीने तक साढ़ेसाती का सामना कर रहे तीनों राशि वाले काफी परेशानियों का सामना कर सकते है लेकिन कुछ उपाय भी है। जिन्हे करके आप लोग शनि की प्रकोप से बच सकते है।



शनि के उपाय
कहा जाता है कि शनि देव शिव के बहुत बड़े भक्त है यानि की अगर आप शिव की उपासना करेंगे। तो शनिदेव खुद प्रसन्न हो जाएंगे। इसलिए साढ़ेसाती का सामना कर रहे लोगों को रोजाना शिवलिंग की पूजा करनी चाहिए। इसके अलावा पीपल को अर्घ्य देने से भी शनि का प्रकोप शांत होता है क्योंकि पीपल में सभी देवी-देवताओं का वास होता है। तो उनकी पूजा करनी चाहिए। साथ ही हनुमान जी की पूजा करने पर भी शनिदेव शांत रहते है।

शनि के प्रकोप को शांत रखने के लिए अनुराधा नक्षत्र में पड़ने वाली अमावस्या बेहद खास है। इस अमावस्या वाले दिन अगर शनिवार हो। तो इस दिन तेल, तिल समेत विधि पूर्वक पीपल के पेड़ की पूजा करें। इसके साथ ही शनि स्तोत्र का नियमित पाठ करें। जिससे शनि देव की कृपा होगा।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment