अद्भुत इस मंदिर के खंभों से निकलती है संगीत की धुन, जानें इसके पीछे का राज - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

30 June 2020

अद्भुत इस मंदिर के खंभों से निकलती है संगीत की धुन, जानें इसके पीछे का राज

भगवान भोलेनाथ की एक प्रतिमा इस मंदिर में विद्यमान है, जिसका निर्माण 700 ईस्वी में किया गया था। अपनी खूबसूरती के लिए तमिलनाडु का यह मंदिर दुनियाभर में प्रख्यात है। संगीत स्तंभ भी इस मंदिर को कहा जाता है। इसके पीछे की वजह यह है कि इस मंदिर के खंभों से आप चाहें तो मधुर संगीत की धुन आराम से निकाल सकते हैं।

पांडवों से नाता

shiva-temple-tamil-nadu-Musical pillars
सातवीं शताब्दी में तिरुनेलवेली के इस मंदिर का निर्माण किया गया था। ऐसी मान्यता है कि पांडवों ने इस मंदिर का निर्माण किया था। मंदिर का फैलाव 14 एकड़ के क्षेत्रफल में है। इसके मुख्य द्वार की लंबाई 850 फीट और चौड़ाई 756 फीट की है। सातवीं शताब्दी के श्रेष्ठ शिल्पकारों में से एक निंदरेसर नेदुमारन ने संगीत खंभों का निर्माण किया था, ऐसा कहा जाता है।

Shiva Temple Tamil Nadu – घंटी जैसी मधुर ध्वनि

shiva-temple-tamil-nadu-Musical pillars
मंदिर में जो खंभे बने हैं, उनसे मधुर धुन बाहर आती है। यही वजह है कि श्रद्धालुओं के बीच कौतूहल बना रहता है। घंटी जैसी मधुर ध्वनि इन खंभों से निकलती हुई सुनने को मिलती है। सात रंग के संगीत की धुन आप भी चाहें तो इन मंदिर के खंभों से निकाल सकते हैं।

अद्भुत है मंदिर की वास्तुकला

shiva-temple-tamil-nadu-Musical pillars
वास्तुकला इस मंदिर की बड़ी ही लाजवाब व अद्भुत है। यहां 48 खंभे एक ही पत्थर को तराश कर बना दिए गए हैं। मुख्य खंभे को इन सभी 48 खंभों ने घेर रखा है। मंदिर में उन खंभों की संख्या 161 है, जिनसे संगीत की धुन बाहर आती है। हैरान करने वाली बात यह है कि यदि आप एक खंभे से ध्वनि निकालने का प्रयास करते हैं तो यहां बाकी खंभों में भी कंपन उत्पन्न होने लगता है। खंभों से बाहर आती ध्वनि का रहस्य पता लगाने के लिए अब तक इस पर कई शोध भी किए जा चुके हैं।

शोध बताते हैं

shiva-temple-tamil-nadu-Musical pillars
अभी तक जो कई शोध हुए हैं, उनमें से एक शोध की मानें तो इस मंदिर में पत्थर के जो खंभे बने हुए हैं, वे तीन श्रेणियों में बटे हुए हैं। इनमें से पहली श्रेणी को श्रुति स्तंभ कहते हैं। दूसरी श्रेणी गण थूंगल के नाम से जानी जाती है। वहीं, तीसरी श्रेणी लया थूंगल की है। शोध में बताया गया है कि श्रुति स्तंभ और लया थूंगल के बीच दरअसल पारस्परिक संबंध बना हुआ है। यही वजह है कि जब श्रुति स्तंभ पर कोई टैप करता है तो लया थूंगल से भी आवाज बाहर आनी शुरू हो जाती है। ठीक उसी प्रकार से जब कोई लया थूंगल पर टैप करता है तो ऐसे में श्रुति स्तंभ से भी ध्वनि का बाहर निकलना शुरू हो जाता है।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment