कलाकार जिन्होंने नेपोटिज़्म को हराकर बॉलीवुड में बनाई अपनी एक अलग पहचान - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

30 June 2020

कलाकार जिन्होंने नेपोटिज़्म को हराकर बॉलीवुड में बनाई अपनी एक अलग पहचान

बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपने पैर जमाना कोई आसान काम नहीं है। और अगर यहाँ आपकी कोई जान पहचान नहीं है या फिर आपका कोई गॉड फादर नहीं है तो समझ लीजिये कि ये एक तरह से नामुमकिन ही है। लेकिन इन स्टार्स ने इस नामुमकिन को मुमकिन कर दिखाया और सभी के लिए एक मिसाल कायम की।

1 शाहरुख़ खान


किंग खान के मुकाम तक पहुंचने के लिए शाहरुख़ ने जितना संघर्ष और मेहनत की है वो सभी युवाओं के लिए एक मिसाल बन चुकी है। ना कोई गॉडफादर और ना ही बहुत सा पैसा , शाहरुख़ ने सिर्फ अपनी प्रतिभा और मेहनत के बलबूते पर ये मकाम हासिल किया है। टी वी नाटक “फौजी ” से अपना करियर शुरू करने वाले शाहरुख ने अपना बॉलीवुड डेब्यू फिल्म “दीवाना ” से किया था। और उसके बाद तो बस वो सबको अपना दीवाना बनाते चले गए।पर शाहरुख़ के पक्ष में एक बात थी कि जिस समय वे बॉलीवुड में आये तब न तो ज़्यादा स्टार किड्स थे और न ही इस तरह का माहौल था , तब टैलेंट की कदर की जाती थी।

2 अक्षय कुमार

आर्मी बैकग्राउंड से आये अक्षय कुमार जहाँ एक समय वेटर हुआ करते थे आज इंडस्ट्री के सबसे ज़्याडा कमाई करने वाले सितारे बन चुके हैं। 1987 में महेश भट्ट की फिल्म “आग” से डेब्यू करने वाले अक्षय कुमार को पहचान मिली फिल्म “सौगंध” से और फिर कई उतार -चढ़ाव देखने के बाद आज वो बॉलीवुड के सबसे सफल और समृद्ध अभिनेताओं में से एक हैं।

3 कंगना रनौत

हिमाचल प्रदेश से आयी छोटे शहर की इस लड़की ने बहुत लम्बी यात्रा तय की है अपनी पहचान बनाने के लिए। 2006 में अपनी पहली फिल्म से लेकर आज इंडस्ट्री की सबसे ज़्यादा पेड एक्ट्रेस बनना कोई आसान काम नहीं था। कंगना का बहतु मज़ाक उड़ाया गया क्योंकि एक छोटे शहर से होने के कारण उनकी अंग्रेजी और बोलने की शैली उतनी प्रभावशाली नहीं थी। लेकिन फिर भी सभी विरोधियों से लड़ते हुए कंगना ने अपने बल बूते पर न कभी किसी के सामने सर झुकाया और न ही किसी कैंप का हिस्सा बनीं। हर बात को बिना डरे साफ़ साफ़ कहना उनकी सबसे बड़ी ताकत है।

4 जॉन अब्राहम


जॉन ने अपना करियर एक म्यूज़िक वीडियो से शुरू किया था। उसके बाद उन्होंने एक चर्चित मॉडलिंग प्रतियोगिता भी जीती। इसके बाद वो बहुत से विज्ञापनों, म्यूजिक वीडियो आदि में नज़र आये। फिर उन्होंने फिल्म “जिस्म” में बिपाशा बासु के अपोज़िट डेब्यू किया। और इसके बाद की कहानी तो सबको पता ही है। जॉन ने धीरे धीरे खुद को हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित किया और वो खुद आज एक सफल निर्माता हैं और नए लोगों को मौका देने में विश्वास रखते हैं। जॉन एक सरल इंसान हैं जिन्होंने कभी फ़िल्मी दुनिया की कैंप राजनीति में हिस्सा नहीं लिया।

5 आयुष्मान खुराना

एक सीधा सादा लड़का जिसे संगीत में भी रूचि थी आज ‘हटके’ फिल्म्स करने के लिए बॉलीवुड में विख्यात है। आयुष्मान को पारस पत्थर कहा जाने लगा है क्योंकि वे जिस प्रोजेक्ट या फिल्म को हाथ में लेते हैं वो सुपरहिट हो जाती है। आयुष्मान ने भी काफी स्ट्रगल करने के बाद ये मुकाम हासिल किया। नेपोटिज़्म के बारे में बात करते हुए एक बार आयुष्मान ने कहा था कि अगर नेपोटिस्म न होता तो वे 27 नहीं 22 साल की उम्र में अपनी पहली फिल्म कर रहे होते। लेकिन फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और आज हर कोई उनका कायल है।

6 राजकुमार राव

राजकुमार की अभिनय क्षमता ने हर किसी को प्रभावित किया है। थिएटर से अपनी अभिनय यात्रा शुरू करने के बाद फिल्म “शाहिद ” में अपनी अद्भुत अदाकारी से सबको अपनी काबिलियत का सबूत दिया। फिल्म “क्वीन” में कंगना रनौत के साथ लीडिंग रोल करने के बाद तो उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा। ‘स्त्री’ ‘बरेली की बर्फी ‘ आदि फिल्मों ने उन्हें और मज़बूती से सबके बीच खड़ा कर दिया।

7 रणदीप हूडा

क्या आपने कभी इतने अच्छे दिखने वाले एक्टर को थिएटर करते देखा है? पर ये सही है कि रणदीप ने अपना अभिनय सफर थिएटर से ही शुरू किया था। इससे पहले रणदीप ने मेलबर्न से अपनी डिग्री हांसिल करके एक एयरलाइन्स के लिए मार्कटिंग का काम किया। पर फिर जल्द ही थिएटर और मॉडलिंग करने लगे। मीरा नैयर की फिल्म ‘मानसून वेडिंग’ से बड़े परदे पर दस्तक दी , और फिर “वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई ” से स्टार बन गए। ‘हाइवे’ और ‘सरबजीत’ जैसी फिल्मों से उन्होंने दिखा दिया कि उनके अभिनय की रेंज कितनी अच्छी है।

8 नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी



नवाज़ुद्दीन एक ऐसे एक्टर हैं जिनसे बहुत सी चीज़ों में इंस्पायर हुआ जा सकता है। उत्तरप्रदेश के एक छोटे से कस्बे मुज़फरपुर के एक मुस्लिम परिवार में जन्मे नवाज़ुद्दीन के पिता एक किसान थे। नौ भाई बहनो के साथ पले नवाज़ुद्दीन ने मुंबई आने से पहले एक केमिस्ट के तौर पर काम किया था। मुंबई आने के बाद उन्हें बहुत स्ट्रगल करनी पड़ी थी। फिर आखिरकार २००४ में फिल्म ” ब्लैक फ्राइडे ” और “पतंग” में उन्हें उनके काम के लिए सराहना मिली। नवाज़ुद्दीन ने अपना बॉलीवुड डेब्यू आमिर खान की फिल्म ‘सरफ़रोश’ में एक बहुत छोटे से रोल के साथ किया था। और उसके बाद भी उन्होंने बहुत से छोटे छोटे रोल किये। अंत में अनुराग कश्यप की “ब्लैक फ्राइडे ” से उन्हें पहचान मिली , और आज वक्त ऐसा है कि हर कोई उन्हें पहचानता है।

9 विद्या बालन

विद्या भी एक पावरहाउस परफ़ॉर्मर हैं और उनका भी फिल्म इंडस्ट्री में कोई सगा सम्बन्धी नहीं था। एक म्यूज़िक वीडियो में आने के बाद उन्होंने अपने फ़िल्मी सफर की शुरुआत की और ‘परिणीता’ से सबको चकित कर दिया। विद्या उन लोगों में से हैं जो किसी के कहे अनुसार नहीं अपने मन से रहने और चुनने में विश्वास करती हैं। यही कारण है कि उनके हिस्से में ‘कहानी’ ‘डर्टी पिक्चर’ ‘तुम्हारी सुलु ‘ जैसी शानदार हिट फिल्में हैं जो सिर्फ उनके दम पर सुपरहिट हुईं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment