आखिर ऑनलाइन शॉपिंग में वापस किया गया माल जाता कहां है ? जानकर रह जाएंगे दंग - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

22 June 2020

आखिर ऑनलाइन शॉपिंग में वापस किया गया माल जाता कहां है ? जानकर रह जाएंगे दंग

जी हां, कई बार ऐसा होता है कि हम ऑनलाइन कोई सामान मंगाते हैं और पसंद ना आने पर हम उसे रिटर्न कर देते हैं। ऐसे में आपका सिर दर्द तो खत्म हो जाता है कि आपने गलत सामान को लौटा दिया, पर क्या आपने कभी ये जानने की कोशिश की है कि ऑनलाइन शॉपिंग में वापस लौटाए गए सामान आखिर जाते कहां है? असल में आप सोच भी नहीं सकते कि ऑनलाइन शॉपिंग में वापस किए गए प्रोडक्ट्स के साथ क्या होता है।
शायद आपको ये लगता हो कि ऐसे प्रोडक्ट्स को कम्पनी वापस ले लेती है, तो आप गलत हैं। असल में आपको बता दें कि जिन प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन शापिंग के बाद वापस कर दिया जाता है, वो आखिर में कूड़े के ढ़ेर तक पहुंच जाती है। दरअसल, एक बार जिन प्रोडक्ट्स को कम्पनी सप्लाई के बाहर निकाल देती है, वापस से उसको रखना कम्पनी के लिए मैनेज करना मुश्किल हो जाता है। खुले सामान को पैक करने के लिए कम्पनी को अतिरिक्त वक्त और श्रम दोनो लगाना पड़ता है। ऐसे में कम्पनियां ऐसे सामान को या तो भारी डिस्काउंट के साथ सस्ते दाम पर बेच देती हैं या फिर इन्हें ट्रकों में भरकर कूड़े के ढेर तक पहुंचा दिया जाता है।
असल में, हम ये ऐसे ही नहीं कह रहे हैं बल्कि बड़ी-बड़ी कम्पनियों के एक्सपर्ट इस बात का खुलासा कर चुके हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ़ आर्ट्स लंदन के सेंटर फ़ॉर सस्टेनेबल फ़ैशन की सारा नीधम बताती हैं कि ऑनलाइन शॉपिंग के बाद सामान की वापसी आर्थिक और पर्यावरण दोनों ही दृष्टि से घाटे का सौदा है। सारा के अनुसार, इस तरह से वापस आने वाले बहुत से सामान इस्तेमाल में होने से पहले ही कूड़े के ढेर में चले जाते हैं। जबकि इनमें ऐसे कई उत्पाद होते हैं जिसमें महंगे संसाधनों का इस्तेमाल होता है जो कि धीरे-धीरे दुर्लभ हो रहे हैं, लेकिन फिर ऐसे प्रोडक्ट्स हो मजबूरन फेकना पड़ता है।
रिपोर्ट्स की माने तो तकरीबन हर साल 5 अरब पाउंड मुल्य का माल वापस किया जाता है, ऐसे में इसके चलते लगभग 1.5 करोड़ मीट्रिक टन कार्बन डाईऑक्साइड पर्यावरण में घुल जाती है। असल में कपड़े और जूते जैसे प्रोडक्ट्स के साथ ये बात कहीं अधिक लागू होती है, क्योंकि ऐसे प्रोडक्ट्स को बनाने में पहले से ही पर्यावरण को काफी अधिक नुकसान पहुंच चुका होती है और फिर जब वापस ये कूड़े के ढ़ेर में पहुंचता है तो फिर ये सीधे तौर पर पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता है।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment