पंचतत्व में विलीन हुए सुशांत सिंह राजपूत, नम आंखों से दी अंतिम विदाई - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

15 June 2020

पंचतत्व में विलीन हुए सुशांत सिंह राजपूत, नम आंखों से दी अंतिम विदाई

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (sushant singh rajput) की मौत ने सबको अंदर से हिलाकर रख दिया है. हर कोई उनकी मौत से गमगीन है. एक्टर सुशांत सिंह का पवन हंस शवदाह गृह में अंतिम संस्कार हुआ. आखिरी विदाई में लॉकडाउन और कोरोना की वजह से सिर्फ 20 लोगों को ही शामिल होने की इजाजत मिली. सुशांत सिंह ने बांद्रा में फ्लैट के कमरे में रविवार को फांसी लगाकर जान दे दी थी. आज सुशांत भले ही इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन, वह अपने पीछे ऐसे कई सवाल छोड़ गए. जिनके जवाब अब सिर्फ पुलिस ही नहीं बल्कि वो तमाम लोग ढूंढ रहे हैं जो अच्छे से जानते थे कि, सुशांत इतने कमजोर नहीं थे.
एक्टर की मौत के बाद पता चला कि, वह अक्सर तारों से बातें किया करते थे लेकिन, कब वह खुद आसमान का चमकता सितारा बन गए. ये सोचकर ही दिल रो पड़ता है.
सुशांत ने अपने करियर की शुरुआत बहुत से संघर्षों के साथ की थी. उन्होंने कई उतार-चढ़ाव देखें लेकिन, उनके साथ ऐसा कुछ जिसने उन्हें अंदर से तोड़ दिया. शायद इसी वजह से उन्होंने बड़ा खौफनाक कदम उठाया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट दम घुटने की वजह सामने आई है. यानि फांसी लगाने से उनका दम घुट गया और उनकी मौत हो गई.

कई कलाकार अंतिम संस्कार में हुए शामिल
सुशांत सिंह को आखिरी विदाई देने के लिए टीवी एक्टर अर्जुन बिजलानी, एक्ट्रेस श्रद्धा कपूर, एक्टर विवेक ओबरॉय, एक्ट्रेस कृति सेनन समेत कई कलाकार पहुंचे.
पिता हुए बेसुध
सुशांत सिंह के इस कदम से सिर्फ बॉलीवुड या फैंस ही नहीं बल्कि पूरा बिहार रो रहा है. वह बिहार के बेटे थे और जब उनके पिता को बेटे की जानकारी मिली तो वह बेसुध होकर गिर पड़े. एक्टर के पिता पटना में रहते थे और इनकी मां का 2002 में ही निधन हो गया था. हालांकि, मौत से करीब 10 दिन पहले एक्टर ने अपनी मां के लिए आखिरी पोस्ट लिखा था. वह मां के काफी करीब थे और जाते-जाते पिता को अपना ध्यान रखने की बात भी कही थी. एक्टर ने कहा था कि, वह घर से ना निकलें और कोरोना वायरस से बचकर रहें. पिता के भीतर भी ऐसे कई सवाल होंगे जो वह अपने बेटे से पूछना चाहते होंगे. लेकिन, सुशांत अपने पीछे एक नहीं बल्कि कई अधूरे सवालों को छोड़कर चले गए.

No comments:

Post a Comment