इन आसान तरीकों से बढ़ाएं बच्चे की याददाश्त - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

23 June 2020

इन आसान तरीकों से बढ़ाएं बच्चे की याददाश्त

जी हां, ये अक्सर देखा गया है कि कुछ बच्चे पढ़ाई के मामले में बेहद कमजोर रह जाते हैं... असल में ऐसा इसलिए भी होता है कि उन बच्चों में दूसरों की अपेक्षा याददाश्त कमजोर होता है और वो चाहकर भी चीजों को याद या सीख नहीं पाते हैं। हालांकि ऐसी स्थिति में परेशान होने की कोई बात नहीं है, क्योंकि अगर कोशिश की जाए तो बच्चों की याद्दाश्त क्षमता काफी हद तक बढ़ाई जा सकती है। दरअसल, इसके लिए पैरेंट्स को कुछ छोटी-छोटी बातों पर ध्यान रखना होगा। आज हम आपको ऐसी ही कुछ आसान टिप्स देने जा रहे हैं जिसके जरिए आप अपने बच्चें की याददाश्त क्षमता बढ़ा सकते हैं।
दिमाग तेज करने वाले गेम्स खिलाएं
आमतौर पर लोग बच्चों को गेम्स इसलिए नहीं खेलने देते हैं कि उससे उनका पढ़ाई से ध्यान हटेगा पर असल देखा जाए तो कुछ गेम्म, बच्चों की याददाश्त बढ़ाने में बेहद मददगार साबित होते हैं। जैसे कि चैश, चेकर्स या सुडोकू जैसे गेम्स बच्चों के दिमाग को तेज बनाते हैं, इसलिए बच्चों को ऐसे गेम्स खिलाने चाहिए। हो सके तो आप खुद उनके साथ ऐसे गेम्स खेलें और कोशिश करें कि बच्चा ऐसे गेम को पूरी तल्लीनता के साथ खेलें। कुछ दिनो में आप पाएंगे कि इससे बच्चे का दिमाग अधिक तेजी से काम करने लगा है।
चित्र और टेबल याद रखने में करेंगे मदद
जिन चीजों को बच्चे नम्बर्स या तथ्यात्मक तौर पर याद नहीं कर पाते हैं, कोशिश कीजिए कि उन चीजों को आप उन्हें चित्रों, तस्वीरों या क्राफ्ट के माध्यम से सीखाएं। असल में इन चीजों के तरफ बच्चे आकर्षित होते हैं, ऐसे में इनकी मदद से वो कोई भी चीज आसानी से याद कर सकते हैं।
लिखकर याद करने की आदत डलवाएं
स्मार्ट लर्निंग के जमाने में आजकल बच्चों में भी लिखने की आदत काफी कम हो गई, जबकि इसी के चलते उन्हें याद करने में भी दिक्कत आती है। असल में, कोई भी चीज लिखकर याद की जाए तो वो आसानी से और आधिक देर के लिए याद रहती है। इसलिए बच्चे में लिखकर याद करने की आदत डालिए।
फिजिकल एक्टिविटी बढाएं
जी हां, सिर्फ बच्चों को पढ़ाई के लिए प्रेरित करने से बात नहीं बनेगी, बल्कि अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा पढ़ाई में तेज हो तो उसकी फिजिकल एक्टिविटी पर भी ध्यान देना होगा। बच्चे की जितनी अधिक फिजिकल एक्टिविटी बढ़ेगी उसकी मानसिक क्षमता में भी उतना ही सुधार आएगा और उसका दिमाग तेजा होगा। इसलिए बच्चे को आउट डोर गेम खेलने के लिए प्रेरित करें।

No comments:

Post a Comment