गर्मियों में सबसे अधिक होता है इन 4 बीमारियों का खतरा, जानिए इनसे बचाव के उपाय - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

21 June 2020

गर्मियों में सबसे अधिक होता है इन 4 बीमारियों का खतरा, जानिए इनसे बचाव के उपाय

वैसे तो हर मौसम सेहत के लिए कुछ फायदे और नुकसान लेकर आता है, पर गर्मियों के दिन खास तौर पर स्वास्थ्य के लिए काफी संवेदनशील होते हैं। जिनमें अगर जरा भी लापरवाही बरती जाए तो आप आपको गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती है। आज हम आपको ऐसी ही कुछ बीमारियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके होने का खतरा गर्मियों में काफी अधिक होता है।साथ ही हम आपको इनसे बचने के उपायों के बारे में भी बताएंगे।
डिहाइड्रेशन
जी हां, गर्मी के चलते अक्सर लोगों को डिहाइड्रेशन की समस्या हो जाती है। असल में, तेज गर्मी के कारण जब हमारे शरीर से पसीना निकलता है तो शरीर के तापमान को संतुलित करने के लिए बॉडी में पानी की जरूरत पड़ती है। ऐसे में अगर फिर भी आप कम पानी पीते हैं, तो फिर आपको डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। आपको बता दें कि कई बार डिहाइड्रेशन की समस्या इतनी गंभीर हो जाती है कि इसके चलते व्यक्ति की मौत भी हो जाती है, इसलिए इससे बचने के लिए जरूरी है गर्मी के मौसम में आप पानी की पर्याप्त सेवन करें।
टायफॉइड
गर्मी के दिनों में दूसरी होने वाली सबसे मुख्य बीमारी है टॉयफायड। दरअसल, ये ज्यादातर खानपान में बरती गई लापरवाही के चलते होती है। जैसे कि आप बाजार की दुषित चीजें खा लेते हैं, या फिर आप गंदे पानी का सेवन करते हैं, तो आपको टायफॉइड होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है। इसमें आपको तेज बुखार के साथ, उल्टी महसूस होती है, साथ ही आपको भूख नहीं लगती। कई बार टायफॉइड जानलेवा भी हो जाता है, इसलिए इससे बचना है तो आपको खानपान में स्वच्छता का खास ध्यान रखना होगा।
पीलिया
वहीं गर्मी के मौसम पीलिया का खतरा भी काफी हद तक बढ़ जाता है, जिसमें व्यक्ति के शरीर में खून की कमी हो जाती है और इस कारण शरीर पीला पड़ने लगता है। साथ ही इसमें पाचन तंत्र भी कमजोर हो जाता है। इसके होने के कारण की बात करें तो ये गर्मी के दिनों में दूषित खाने के कारण होता है। इसलिए गर्मी के मौसम में जितना हो सके ताजा, हल्का और सुपाच्य भोजन करें।
चेचक
जी हां, गर्मी के मौसम में चेचक के संक्रमण का खतरा भी काफी हद तक बढ़ जाता है। इसके लक्षणों की बात करें तो इसमें रोगी के शरीर में लाल चकते निकल आते हैं, साथ ही सिरदर्द और बुखार की समस्या पेश आती है। वैसे इसकी शुरुआती गले में खराश के साथ होती है और इसके रोगी को खांसी के साथ छींके भी बहुत आती है, जिससे कारण ये रोग दूसरों में भी फैल जाता है। ऐसे में इससे बचने के लिए जरूरी है कि जब भी आप बाहप निकले स्वच्छता का खास ध्यान रखें और बाहर से घर आने पर अपने हाथ-पैर जरूर धूलें। इसके टीके भी लगवाएं जाते हैं, जिससे बचाव हो सकता है।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप हमें सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment